रक्तदान और उसके स्वास्थ्य लाभ

0
259
Photo by LuAnn Hunt on Unsplash

डॉ श्याम सुंदर गुप्ता, Ph.D. और डॉ अजय कुमार तिवारी, M.D. (आयुर्वेद)

रक्त शरीर की कोशिकाओं को पोषक तत्व और ऑक्सीजन की आपूर्ति करता है और शरीर के अपशिष्ट उत्पादों भी को दूर करता है। किसी की जान बचाने के लिए रक्तदान एक अच्छी आदत है। यह खुशी और स्वास्थ्य लाभ भी देता है। डब्ल्यूएचओ (WHO) द्वारा हर साल विश्व रक्तदान दिवस का आयोजन दूसरों को रक्तदान के लिए प्रेरित करने के लिए किया जाता है। दूसरों को रक्तदान करने के कुछ आश्चर्यजनक स्वास्थ्य लाभ हैं। वे हैं

निःशुल्क स्वास्थ्य जांच

डब्ल्यूएचओ की सिफारिश है कि दान किए गए सभी रक्त के नमूनों की जांच संक्रमण की पुष्टि के लिए रक्त और उसके घटकों को ​​उपयोग के लिए जारी करने से पहले की जानी चाहिए। एचआईवी, सिफलिस और हेपेटाइटिस बी और सी के लिए रक्तदान के सभी नमूनों की जांच की जानी चाहिए। दान किए गए रक्त के नमूनों की भी ABO और RhD जाँच होनी चाहिए ताकि रोगी की अनुकूलता और सुरक्षा सुनिश्चित हो सके (1)।

प्रतिऑक्सीकारक (एंटीऑक्सीडेंट) में वृद्धि

रक्तदान ऑक्सीडेंट को हटाता है और सुपरऑक्साइड डिसम्यूटेज (2) जैसे एंटीऑक्सीडेंट एंजाइम को बढ़ाकर ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है।

शरीर के अंगों की लौह विषाक्तता को कम करना

अतिरिक्त आयरन प्रतिक्रियाशील ऑक्सीजन प्रजातियों के उत्पादन के माध्यम से अंगों में विषाक्तता पैदा करता है। शरीर से अतिरिक्त आयरन को बाहर निकालने के लिए कोई तंत्र सक्रिय नहीं है। अतिरिक्त प्रतिक्रियाशील ऑक्सीजन प्रजातियों के उत्पादन के कारण अतिरिक्त आयरन हृदय, यकृत, थायराइड, पेनक्रियाज और केंद्रीय तंत्रिका तंत्र में अंग क्षति का कारण बनता है (3)। नियमित और बार-बार रक्तदान करने से रक्तदाताओं में आयरन का स्तर क़ायम रहता है और शरीर में लौह विषाक्तता से छुटकारा मिलता है (4)।

रोधगलन (Myocardial Infarction) के जोखिम को कम करना

शरीर में उच्च लोहे (आयरन) का भंडारण तीव्र रोधगलन पैदा करता है। रक्तदान करने से शरीर में आयरन की मात्रा कम होने का खतरा कम हो जाता है। रक्तदाताओं में खोए हुए एरिथ्रोसाइट्स को बदलने के लिए नए एरिथ्रोसाइट्स जल्दी से निर्मित होते हैं। यह प्रक्रिया अतिरिक्त आयरन की खपत करती है और सीरम फेरिटिन सांद्रता को कम करती है। इसलिए रक्तदान के बाद औसतन परिसंचारी लाल रक्त कोशिकाएं छोटी होती हैं। नए युवा एरिथ्रोसाइट्स दोनों फेरिटिन-बाउंड और अन्य चिलेटेड आयरन का रिसाव करते हैं (5)।

हेमोक्रोमैटोसिस कम करना

वंशानुगत हेमोक्रोमैटोसिस वाले रोगियों में, जीवन भर आयरन के अवशोषण में वृद्धि से आयरन के जमाव से कई ऊतकों और अंगों (यकृत की पैरेन्काइमल कोशिकाओं, हृदय, अंतःस्रावी अंगों और जोड़ों) को नुकसान हो सकता है। यदि समय से इसका उपचार नहीं किया गया तो यह फाइब्रोटिक यकृत रोग, हेपेटोसेलुलर कैंसर, सिरोसिस, कार्डियोमायोपैथी, ऑस्टियोआर्थराइटिस, मधुमेह, त्वचा रंजकता और हाइपोगोनैडोट्रोपिक हाइपोगोनाडिज्म जैसे यौन रोग का कारण बन सकता है (6)।

कैंसर का खतरा कम करना

उच्च आयरन कैंसर को प्रेरित कर सकता है। आयरन  काम्प्लेक्स से मुक्त आयरन कैंसर को बढ़ावा देने वाले लिपोपरोक्साइड का उत्पादन कर सकता है। आयरन ओवरलोड तब होता है जब शरीर का कुल आयरन 5 ग्राम से अधिक होता है और इससे स्तन, कोलोरेक्टल, अग्नाशय, यकृत और प्रोस्टेट के कैंसर का खतरा होता है। कुछ जांचों से पता चलता है कि रक्तदान करने से शरीर में आयरन के भंडारण में कमी के कारण कैंसर का खतरा कम हो सकता है (7) ।

परम आनंद की अनुभूति और शक्तिशाली प्रतिरक्षा प्रणाली (इम्यून सिस्टम)

किसी की जान बचाने से हर रक्तदाता को परम आनंद की अनुभूति होती है। आनंद शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए एक टॉनिक है। कुछ जांचों से पता चला है कि आनंद तनाव (स्ट्रेस) हार्मोन के उत्पादन को कम करता है और प्रतिरक्षा प्रणाली (इम्यून सिस्टम) को शक्तिशाली बनाता है।

Note: Please consult your family doctor before applying any health tips of Amrit Health Tips website (www.amrithealthtips.com).

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here